Why not use Microsoft Windows 7 Operating System in Your PC or Laptop

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी अपने विंडो 7 ऑपरेटिंग सिस्टम में 14 जनवरी 2020 के बाद कोई भी अपडेट देने से इंकार किया है। इसका मतलब यह है की माइक्रोसॉफ्ट कंपनी 14 जनवरी 2020 के बाद अपने ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो 7 में कोई भी अपडेट नहीं देगी। माइक्रोसाफ्ट कंपनी ने यह भी बताया है कि जितने भी विंडो 7 के यूजर्स है वो अपने लैपटॉप या कम्प्यूटर को विंडो 10 के साथ अपग्रेड कर ले।

विंडो-7 क्या है ? यह कब लांच किया गया था ?

विंडो 7 एक माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का ऑपरेटिंग सिस्टम ( संचालन प्रणाली ) है। इसे कंप्यूटर सॉफ्टवेर कंपनी माइक्रोसाफ्ट द्वारा 23 अक्टूबर 2009 को लांच किया गया था। विंडो 7 विंडो विस्टा का ही अपग्रेडेड वर्जन था। माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने अपने ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो विस्टा में सुधारकर विंडो 7 को तैयार किया गया था। जिससे विंडो 7 काफी यूजर फ्रेंडली हो गया था। विंडो 7 ऑपरेटिंग सिस्टम को तैयार करने के लिए इतिहास के सबसे बड़े परिक्षण कार्यक्रम का इस्तेमाल किया गया था।
https://www.101gyani.com

विंडो 7 ऑपरेटिंग सिस्टम को क्यों तैयार किया गया ? 

जैसा की हमलोग जानते है कि विंडो 7 से पहले का ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो विस्टा था। विंडो विस्टा में सबसे बड़ी शिकायत यह था कि विस्टा कई एप्लीकेशन को चलाता ही नहीं था यानि सपोर्ट ही नहीं करता था। इसके साथ ही विंडो विस्टा मेमोरी की खपत ज्यादा करता था। 
विंडो विस्टा में एक खराबी यह भी था कि इसमें बार-बार security update करने को कहा जाता था। जो यूजर्स के लिए परेशानी बनी हुई थी। विंडो विस्टा कंप्यूटर को खोलने और बंद करने में भी ज्यादा समय लेता था। 

इन सभी बातों ( परेशानियों ) को ध्यान में रखते हुए माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने 23 अक्टूबर 2009 को अपनी एक नई ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो 7 को लांच की। यह कंप्यूटर को खोलने और बंद करने में ज्यादा समय नही लेता था और इसमें बार-बार security update भी करने को नहीं कहा जाने लगा। 

14 जनवरी 2020 के बाद विंडो 7 का उपयोग क्यों न करे ?

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के सपोर्ट ब्लॉग पेज से मिली जानकारी के अनुसार माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने 22 अक्टूबर 2009 को विंडो 7 लांच किया था और कंपनी ने 10 सालों तक अपना सपोर्ट देने के लिए वादा किया भी किया। इसी के देखते हुए समय सीमा समाप्त होते ही कंपनी ने 14 जनवरी 2020 से विंडो 7 के लिए सपोर्ट देना बंद कर दिया है। 

अगर विंडो 7 पर कंपनी कोई भी अपडेट नहीं देगी तो इससे यूजर्स का डेटा आसानी से हैक हो सकती है। इसमें बहुत सारे वायरस अटैक आने लगेगी और यूजर्स का कंप्यूटर भी हैंग होने लगेगा। 

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी अपने विंडो 7 ऑपरेटिंग सिस्टम पर कोई भी टेक्निकल या सिक्योरिटी अपडेट नहीं देगी। इससे सिक्योरिटी का खतरा हमेशा यूजर्स को बना रहेगा। 

विंडो 7 को लेकर यूजर्स को परेशान नहीं होना है इस समस्या का भी हल है 

ऐसा नहीं है माइक्रोसॉफ्ट ने अगर अपने ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो 7 में टेक्निकल सुपोर्ट देना बंद कर देगा तो हमारा लैपटॉप का कंप्यूटर काम करना बंद कर देगा। परेशानी तो बस इस बात की है कि कहीं विंडो 7 को यूज करते हुए आपका डेटा हैक न हो जाये। 

आपका डेटा हैक न हो इसके लिए माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने ये भी कहा है कि जितने भी विंडो 7 के यूजर्स है वो अपने ऑपरेटिंग सिस्टम को विंडो 10 में अपग्रेड कर लें। जिससे आपका डेटा भी सुरक्षित रहेगा और कंप्यूटर भी तेजी से काम करेगा। 

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने विंडो 7 को टेक्निकल सुपोर्ट न देने की जानकारी मार्च 2019 में ही अपने ब्लॉग पेज में दी थी। और ये भी कहा था कि 2019 के आखिर तक सभी यूजर्स को इसकी नोटिफिकेशन भेज दी जायेगी। और ऐसा ही हुआ। 

विंडो 10 के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ क्लिक करे- 

मैं आशा करता हूँ की आप सभी जितने भी विंडो 7 यूजर्स होंगे वो अपनी ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो 7 को विंडो 10 में अपग्रेड कर लेंगे। 
और भी इसी प्रकार की जानकारी के लिए हमें फॉलो करे। अगर आपका कोई सपोर्ट और प्यार हो तो नीचे कमेंट करना न भूले। 

Post a Comment