किस जगह पर कितनी देर तक जिंदा रह सकती है, कोरोना वायरस

आज हम और आप एक ऐसी खतरनाक बीमारी या यूँ कहे की एक महामारी से लड़ रहे है। जिसका हमें सिर्फ नाम पता है, इसको ख़त्म कैसे करना है ये पता ही नहीं। इससे लड़ने के लिए बस बचाव, सावधानियाँ और सतर्कता ही एकमात्र रास्ता है। कोरोना वायरस को लेकर लोगो के मन में कई सवाल है की आखिरकार ये कोरोना वायरस खुली सतहों पर कितनी देर तक जिन्दा रह सकता है। किसी भी चीज चाहे वो लिफ्ट का बटन हो, स्मार्टफोन हो, खाने का समान हो, दरवाजे का हैंडल हो, इनको छूने से भी क्या कोरोना वायरस की चपेट आ सकते है। जैसा की आपको पता है कोरोना वायरस की दहशत की वजह से पूरी दुनिया में संकट का बादल छाए हुए है। इससे निपटने के लिए पूरी दुनिया एकजुट होकर इसका सामना कर रही है।

आपको बता दे, ये कोरोना वायरस सतह के जरिए लोगो तक पहुँचता है। जिसकी वजह से किसी भी चीज को छूने से बचना चाहिए। आइये हमलोग जानने की कोशिश करते है कि आखिरकार ये वायरस कितनी देर तक जिन्दा रह सकता है। कोरोना वायरस सतह पर कितना देर तक जिन्दा रह सकता है। ये सतह के प्रकार, तापमान या वातावरण के नमी पर निर्भर करता है।

रिसर्च के मुताबिक कोरोना वायरस ड्रोप्लेट्स, Contact Transmission और Aerosol Transmission के माध्यम से तेजी से फैलता है। जिसकी वजह से ये वायरस कुछ घंटों से लेकर कई दिनों तक सतहों पर जिन्दा रह सकता है। इसे आप आसान भाषा में समझे तो, अगर कोई खाँस या छिक रहा हो तो इसका पार्टिकल्स सामने वाले को तेजी से संक्रमित कर सकता है। साथ ही, अगर आप किसी चीज को छूने से डर रहे है तो बता दे की ये कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति पर ज्यादा तेजी से फैलता है। आप एक दूसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से बचे।

corona virus living time, corona virus update, corona virus details in hindi

शोधकर्ताओं के अनुसार, कोरोना वायरस कितनी देर तक किस चीज पर जिंदा रह सकता है : 

➡️प्लास्टिक और स्टील की सतह पर : कोरोना वायरस प्लास्टिक और स्टील की सतह पर तीन दिनों तक जिंदा रह 
     सकता है। अगर तीन दिनों में किसी व्यक्ति ने संक्रमित सतह या सरफेस को छू देता है तो वह व्यक्ति कोरोना वायरस 
     का शिकार हो सकता है। 

➡️लकड़ी और काँच के सतह पर : लकड़ी और काँच के सतह पर कोरोना वायरस चार दिनों तक जिंदा रह सकता है। 
     अगर आप चार दिनों के अंदर संक्रमित लकड़ी या काँच को छूते है तो आप कोरोना वायरस का शिकार हो सकते है
     और आपके लिए खतरा बढ़ सकता है। 

➡️रबड़ की वस्तुओं पर : रबड़ की बनी वस्तुओं में कोरोना वायरस 8 घंटों तक जिंदा रह सकता है। इससे बचने के लिए
     अपने हाथों को लगातार साबुन से धोते रहे। 

➡️कार्डबोर्ड या पॉलीथिन पर : कार्ड बोर्ड की बात की जाए तो कोरोना वायरस कार्डबोर्ड पर 24 घंटे और पॉलीथिन
    पर 16 घंटो तक जिंदा रह सकता है। 

ऐसे में जरूरी है हम अपने बचाव पर स्वयं ध्यान दे। शोधकर्ताओं के अनुसार, ठंड और फ्लू दोनों ही वायरस कपड़े, कागज जैसे चित्रकूट सतहों पर बहुत कम समय तक जिंदा रहता है। इसमें बहुत कम संक्रामक वायरस 4 घंटो के बाद भी जीवित रहता है।

➡️ मनुष्यों में 9 दिनों तक : मनुष्य के शरीर में कोरोना वायरस 9 दिनों तक जीवित रह सकता है। आपको बता दे 
     इंसानों में आए MERS और SARS जैसी कोरोना वायरस निर्जीव पदार्थो जैसे धातु, काँच या फिर प्लास्टिक आदि में 
     पाए गए थे। 

'द जर्नल ऑफ हॉस्पिटल इंफेक्शन' में प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक MERS और SARS वायरस इन वस्तुओं की सतह पर 9 दिनों तक जिंदा रह सकता है। हालाँकि रिसर्च के मुताबिक, घरों में पड़े रोजमर्रा की जरूरत के सामानों को धोते रहने से वायरस के खतरे से बचा जा सकता है। वही कोरोना वायरस से बचने के लिए एल्कोहल वाले सेनिटाइजर से अपने हाथों को धोना चाहिए। साबुन पानी से भी अपने हाथों को धोएँ। आप सभी 60% से अधिक एल्कोहॉल वाले सेनिटाइजर का इस्तेमाल करे। सेनिटाइजर के इस्तेमाल करने से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है।

ऐसे में कई सारे अफवाहें भी फैली हुई है कि गर्मी में कोरोना वायरस खत्म होने का आसार है। लेकिन ये बात कितनी हद तक सही है आइये जानते है- शोधकर्ताओं के अनुसार, कोरोना वायरस 60 से 70 डिग्री सेल्सियस वाले तापमान तक नष्ट नहीं हो सकता है। इतना तापमान ना तो भारत में है और ना ही आपके शरीर में। कुछ वायरस तापमान के बढ़ने के साथ नष्ट हो जाते है लेकिन कोरोना वायरस पर इसका क्या असर पड़ेगा। इसके बारे में ब्रिटेन के एक डॉक्टर का कहना है कि 2002 के नवंबर में SARS महामारी शुरू हुई थी जो जुलाई 2003 में खत्म हो गई थी लेकिन ये तापमान के बदलने की वजह से हुई या किसी और वजह से ये बताना मुश्किल है। 

वायरस पर शोध करने वाले डॉक्टर परेश देशपांडे का कहना है कि अगर कोई भरे गर्मी में छींकता है तो उसकी छींक की बुँदे गिरकर जल्दी सुख जाता है जिससे वायरस के फैलने का खतरा कम होता है। हम जानते है कि फ्लू वायरस गर्मी के दौरान शरीर से बाहर नहीं रह सकता। लेकिन हमलोगों को ये पता नहीं की कोरोना वायरस पर गर्मी का क्या असर पड़ेगा। ये कहना की कोरोना वायरस गर्मी के दिनों में नष्ट हो जाएगा, इसका कोई ठोस सबुत नहीं है। तापमान के भरोसे मत रहे।

अगर आप कोरोना वायरस से बचना चाहते है तो आप अपने हाथों को लगातार साबुन या हैण्ड वाश से धोते रहे। अपने मुँह, नाक, आँख जैसे अंगों को अपने हाथों से मत छुए। अगर कोई व्यक्ति खाँसता या छींकता है तो उससे दुरी बनाए रखे। आप अपने घरों में रहे सुरक्षित रहे।

कोरोना वायरस से संबंधित आपके पास अगर कोई जानकारी हो तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में जरुर लिखें।

Post a Comment