चार घोड़े की कहानी [ The Story of 4 Horses ] - 101gyani.com

दोस्तों, इस कहानी को अंत तक जरूर पढ़े ताकि आपको ये कहानी पूरी तरह से समझ में आ सके। अपने माइंड को पॉजिटिव कैसे रखे। इस कहानी में 4 घोड़े का जिक्र है। किस प्रकार से एक आदमी इन 4 घोड़ो को ट्रेंड करता है, आइये इसके बारे में हमलोग विस्तारपूर्वक पढ़ते है -

4 Horses story, the story of four horses in hindi, char ghode ki kahani motivational Story
चार घोड़ो की कहानी - 101gyani.com


एक राजा के पास चार घोड़े थे जो बिलकुल ही अनट्रेंड घोड़े थे। इन घोड़ो को कोई भी ट्रेंड नहीं कर पाया था। एक दिन राजा ने ऐलान किया कि जो भी व्यक्ति इन 4 घोड़ो को ट्रेंड कर सकेगा उसे बहुत बड़ा ईनाम दिया जायेगा। जैसे ही कोई व्यक्ति इस घोड़े को हाथ लगाता, घोड़ा उसे खींचकर फेक दिया करता था। इन घोड़ो को ट्रेंड करने के लिए बहुत से लोगो ने प्रयास किया और कई लोगो की हड्डियाँ भी टूट गई थी। लेकिन किसी ने भी इन 4 घोड़ो को ट्रेंड न कर पाया। अंत में सभी लोग इस घोड़ो को सिखाने से डरने लगा और कोई भी इसे सिखाना नहीं चाहता था।

एक दिन एक जवान आदमी आया और उसने राजा से कहा मैं इन चार घोड़ो को ट्रेंड कर सकता हूँ। राजा ने उस आदमी से कहा कि बहुत लोगो ने इस घोड़ो को ट्रेंड करने की कोशिश की और कई लोगो ने तो अपनी हड्डियाँ भी तुड़वा ली है। लेकिन अब तक कोई भी सफल नहीं हुआ है। उस आदमी ने फिर से कहा- मुझे यकीन है कि मैं इन घोड़ो को ट्रेंड कर सकता हूँ लेकिन मेरी एक शर्त है कि मैं इन घोड़ो को अपने पास ही रखूँगा। जब तक की ये पूरी तरह से सिख न जाए। राजा ने इसकी बात मान ली और घोड़े दे दिया।

हफ्ते निकल गए, महीने निकल गए यहाँ तक की साल भी निकल गया लेकिन वो आदमी वापस नहीं आया। तब राजा ने कहा अब उन घोड़ो को भूल जाओ क्योंकि अब वो कभी वापस नहीं आयेगा। घोड़े अब तक ट्रेनर को छोड़कर भाग चूका होगा। राजा ऐसा सोच ही रहा था कि उसने घोड़े की आवाज सुनी और उसने देखा की वही चार घोड़े शांति से एक कतार में आगे बढ़ रहा था। जैसे ही राजा ने अपने घोड़ो को उस आदमी के साथ शांतिपूर्वक आते देखा तो राजा बहुत खुश हो गया। घोड़े बिलकुल ट्रेंड हो चुके थे। तब राजा ने उस आदमी से पूछा- मुझे बताओ तुमने इन घोड़ो को कैसे ट्रेंड किया और तुमने इतना समय क्यों लगाया ? तब उस ट्रेनर ने कहा-

घोड़े सचमुच बहुत ही जंगली थे। जब हम इस घोड़े को ले गए थे तब इसे बिलकुल पूरी तरह से छोड़ दिया ताकि वो जो करना चाहे कर सके। मैं भी उन घोड़ो के साथ वही करने लगा जो वो करता था। जब वो भागता तो हम भी उनके साथ-साथ भागते, जब वो सोता तो हम भी उनके साथ सोते, जब वो खाना खाता तो हम भी उसी वक्त अपना खाना खाते। इसी तरह घोड़े सोचने लगे की हम भी उनके साथ 5वां घोड़ा है। कुछ दिनों के बाद मैंने उसके पीठ पर सीट रखी लेकिन उसे पसंद नहीं था इसलिए उसने सीट को खींचकर फेक देता था लेकिन ऐसा लगातार करने से उसे सीट की आदत सा हो गयी।

फिर हमने बेल्ट लगाई लेकिन उसे बेल्ट पसंद नहीं था इसलिए उसने इसे भी खींचकर फेक दिया करता। धीरे-धीरे लगातार कोशिश करने से उसे बेल्ट की भी आदत हो गयी। इसी प्रकार से मैं धीरे-धीरे इसका दोस्त बन गया और इसे ट्रेंड कर पाया। दूसरें लोग इन घोड़ो को सिखाने के पहले ये गलती करते थे की वे पहले ही दिन से उसे कंट्रोल करने की कोशिश करते थे। बिना घोड़े से दोस्ती किए आप उसे कभी कंट्रोल या फिर सीखा नहीं पाएंगे।

इसी तरह हमारे अंदर भी चार अनट्रेंड घोड़े है और वे है - मानस, चिंता, बुद्धि और अहंकार। जब हमें इनमें से किसी एक को कंट्रोल करना हो तो हम उसी वक्त उनपर पूरी तरह कंट्रोल करने लगते है। जिसका मतलब है कि हम एक ही मिनट में खुद का बॉस बनना चाहते है बिना कोई काम किए हुए। हम इन चार घोड़ो को बहुत जल्दी कंट्रोल करना चाहते है और यही वजह है कि हम अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पाते है। इन चार घोड़ो में से कोई एक घोड़ा जब भी हमसे कहता है- आओ बैठकर घुड़सवारी करते है और जैसे ही हम उसके पीठ पर बैठते है घोड़ा हमे गिराकर फेक देता है। गिराने के बाद दूसरा घोड़ा कहता है-आओ मेरी पीठ पर बैठकर सवारी करो और हमे वे भी गिरा देता है। इस सब का मतलब क्या है ?

इसका मतलब ये है कि पहले हमें अपने मन से दोस्ती करना होगा। मन से दोस्ती करने के बाद ही हमारा मन हमारी बात को सुनना शुरू करेगा। जब तक हम अपने मन से दोस्ती नहीं करेंगे हम हमेशा ही संघर्ष करते रह जायेंगे। यही कारण है कि बहुत से लोग अपने मन की शांति के लिए योगा, प्राणायाम, इत्यादि करने लगते है। अगर फिर भी उन्हें शांति नहीं मिलती तो इसका मतलब है कि उनके अंदर अहंकार है। इसलिए आपको पहले मानस, चिंता, बुद्धि और अहंकार से दोस्ती करना होगा तभी आप सफल हो पाएंगे।

पॉजिटिव थिंकिंग ये कहता है कि अपने मन से हमेशा पॉजिटिव बात करो। 

मैं आशा करता हूँ की आप इस कहानी को समझ पाए होंगे। आप इस कहानी को किस प्रकार से समझ पाए है हमे नीचे कमेंट कर जरूर बताये। 
Previous Post Next Post