सभी फिल्में शुक्रवार के दिन क्यों रिलीज होती है | जानने के लिए इसे पढ़े

जिन लोगों को फिल्में पसंद होती है उन्हें शुक्रवार के दिन का बेसब्री से इंतजार रहता है। आखिर भारत में शुक्रवार को ही फिल्में रिलीज क्यों होती है ? फिल्म बनाने वाले डायरेक्टर और प्रोड्यूसर को शुक्रवार से इतना लगाव क्यों है ? आज के इस आर्टिकल में आपको ऐसे ही कुछ सवालों का जबाब पढ़ने और सिखने को मिलेगा। भारत में शुक्रवार के दिन ही फिल्में क्यों रिलीज की जाती है ? भारत में कब से फिल्में शुक्रवार को रिलीज करना शुरू किया गया ? 

why release movie on Friday, bollywood movie release on Friday, why release on friday


भारत में काफी वर्षो से फिल्में शुक्रवार को ही रिलीज की जाती है। हम सभी लोगो का मानना है कि बॉलीवुड फिल्में शुक्रवार को रिलीज होने का तरीका हॉलीवुड से लिया गया है। एक हॉलीवुड की बहुत ही चर्चित फिल्म थी जिसका नाम गॉन विद द वाइंड ( Gone with the wind ) था। यह फिल्म 15 दिसंबर 1939 को शुक्रवार के दिन रिलीज हुआ था। तभी से हॉलीवुड की सारी फिल्में शुक्रवार को रिलीज होना शुरू हुआ।

1950 के दशक तक भारत में शुक्रवार को फिल्में रिलीज होने का चलन नहीं था। 1950 के अंत में शुरू हुआ भारत में शुक्रवार को फिल्में रिलीज होने का चलन। एक बहुत ही प्रख्यात फिल्म 'नील कमल' उस साल रिलीज हुआ था जिस साल भारत आजाद हुई थी। नील कमल फिल्म 24 मार्च 1947 को भारत में रिलीज हुआ था। 


भारत में शुक्रवार को रिलीज होने वाली पहली फिल्म : 

वैसे तो भारत में रिलीज होने वाली भारत की सबसे पहली फिल्म राजा हरिशचंद्र था, जो 1913 में बनाया गया था। इस फिल्म के निर्माता दादा साहेब फाल्के थे। इसके बाद भारत की पहली बोलती फिल्म आलम आरा थी जो 1931 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म का निर्देशक अर्देशिर ईरानी था। 

मुगल-ए-आजम भारत का पहला ऐसा मूवी है जो शुक्रवार के दिन 5 अगस्त 1960 को रिलीज हुआ था। इस समय भारत के कलर टीवी का प्रचलन नहीं था फिर भी फिल्में शुक्रवार को रिलीज की जाती थी। भारत में 1980 के दशक में कलर टीवी का प्रचलन शुरू हुआ और 1982 में इसका राष्ट्रिय प्रसारण शुरू हुआ। भारत में जब से मुगल ए आजम मूवी शुक्रवार के दिन रिलीज हुई थी तभी से सभी फिल्में शुक्रवार के दिन रिलीज होने शुरू हुआ। फिल्म इंडस्ट्री में शुक्रवार के दिन 'फिल्मी फ्राइडे' मनाया जाता है। 

शुक्रवार के दिन फिल्म को रिलीज करने का सबसे बड़ा कारण यह है कि शुक्रवार हफ्ते का आखिरी वर्किंग डे होता है। जैसा की हम जानते है शनिवार को आधा दिन तक स्कुल या कॉलेज के साथ ऑफिस खुली रहती है उसके बाद दो दिनों के लिए छूटी ही छूटी रहती है। इन दो दिन के छूटी में लोग अपने परिवार के साथ शॉपिंग करने, घूमने और फिल्म देखने के लिए जाते है। जिससे कलेक्शन अच्छा होता है। इन दो दिनों में लोग खूब पैसे खर्च करते है। 

जब कोई नई फिल्म शुक्रवार के दिन रिलीज होती है तब लोगो को काफी उत्साह होता है कि हम शनिवार और रविवार के छूटी में फिल्म देखने जायेंगे। जिससे फिल्म का कलेक्शन अच्छा होता है। डायरेक्टर और प्रोड्यूसर का मानना है कि फ़िल्मी फ्राइडे लक्ष्मी से जुड़ा हुआ है। शुक्रवार का दिन लक्ष्मी का दिन होता है। अगर फिल्म शुक्रवार को रिलीज होती है तो उसपर लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। 

आपको बता दी की भारत में शुक्रवार के अलावा और किसी दिन भी फिल्में रिलीज होती है। 26 जनवरी 2006 में रिलीज हुई फिल्म 'रंग दे बसंती' बुधवार के दिन रिलीज हुई थी। इस फिल्म के निर्देशक राकेश ओमप्रकाश मेहरा थे। इसके अलावा 6 जुलाई 2016 में रिलीज फिल्म 'सुल्तान' भी गुरुवार को रिलीज हुआ था। इस फिल्म के निर्देशक अली अब्बास जफर थे। ये दोनों फिल्म शुक्रवार के अलावा बुधवार और गुरुवार को हुआ फिर भी इसका कलेक्शन काफी अच्छा है। 

कुछ सवाल और जबाब : 

1. भारत में कलर टीवी का राष्ट्रीय प्रसारण किस वर्ष हुआ था ?  = 1892 ई० में 

2. भारत में दूरदर्शन की स्थापना कब हुई थी ?  = 15 सितंबर 1959 

3. टेलीविजन का आविष्कार कब हुआ था ?  = 1924 ई० में 

4. टेलीविजन का आविष्कार किसने किया था ?  = अमेरिकी वैज्ञानिक जे०एल०बेयर्ड ने 

5.  भारत की पहली बोलती फिल्म कब रिलीज हुई थी ?  = 14 मार्च 1931 को आलम आरा
Previous Post Next Post