कबीर दास जी के मोटिवेशनल दोहे ! Motivational Couplets of Kabir Das Jee - 101 Gyani

दोस्तों, मोटिवेशनल आर्टिकल और शायरी के बीच हमने यह एक कबीर दास जी के मोटिवेशनल दोहे को अपने आर्टिकल में लिखने का प्रयास किया है ! अगर आपको इस प्रकार के मोटिवेशनल दोहे पसंद आते है तो हम आपके लिए ऐसे मोटिवेशनल दोहे की आर्टिकल को लाते रहेंगे ! ये सभी दोहे मोटिवेशन के लिए बड़े काम की है ! इसे समय निकालकर अवश्य पढ़ें ! 
 
kabir das couplets in hindi, kabir dohe on motivation, kabir das ke dohe, motivational couplets in hindi, kabir das couplets, kabir ke dohe, arth sahit kabir ke dohe, kabir ke quotes

कबीर दास जी के मोटिवेशनल दोहे 

प्रथम दोहे : 
बुरा जो देखन मै चला, बुरा न मिलिया कोय ! जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय !!

 

इस दोहे का अर्थ : जब मै इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला ! लेकिन, जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा तो पाया की मुझसे बुरा कोई नहीं है !!

द्वितीय दोहे : 

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय ! माली सींचे सौ घड़ा, ऋतु आए फल होय !!
 
इस दोहे का अर्थ : मन में धीरज रखने से सब कुछ होता है ! अगर कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी तो फल ऋतु आने पर ही लगेगा !! 
$ads={1}

तृतीय दोहे : 

अति का भला न बोलना, अति की भली न चुप ! अति का भला न बरसना, अति की भली न धुप !!

 

इस दोहे का अर्थ : न तो अधिक बोलना अच्छा है और न ही जरुरत से ज्यादा चुप रहना ठीक है ! जैसे बहुत अधिक वर्षा और बहुत अधिक धुप अच्छी नहीं होती है !!

चतुर्थ दोहे : 

जो उग्या जो अंतबै, फूल्या सो कमलाही ! जो चिनिया सो ढही पड़े, जो आया सो जाहीं !! 

 

इस दोहे का अर्थ : इस संसार का नियम यही है की जो उदय हुआ है वह अस्त होगा, जो विकसित हुआ है वह मुरझा जाएगा ! जो चिना गया है वह गिर पड़ेगा और जो आया है वह जाएगा !! 

पंचम दोहे : 

संत ना छाडै संतई, जो कोटिक मिले असंत ! चंदन भुवंगा बैठिया, तऊ शीतलता न तजंत !!

 $ads={2}

इस दोहे का अर्थ : सज्जन को चाहे करोड़ो दुष्ट पुरुष मिलें फिर भी वह अपने भले स्वभाव को नहीं छोड़ता ! चंदन के पेड़ में साँप लिपटे रहते है, पर वह अपनी शीतलता नहीं छोड़ता है !! 

षष्टम दोहे : 

श्रम से ही सब कुछ होत है, बिन श्रम मिले कुछ नाही ! सीधे ऊँगली घी जमो, कबसू निकसे नाही !!

 

इस दोहे का अर्थ : जिस तरह जमे हुए घी को सीधी ऊँगली से निकालना असंभव है, उसी तरह बिना मेहनत के लक्ष्य को प्राप्त करना संभव नहीं है !! दोस्तों, मेहनत करते रहिए लक्ष्य हर हाल में मिलेगा !! 

दोस्तों, हमने कबीर दास जी के 6 दोहे को ऊपर अर्थ सहित लिखा है ! ये सभी दोहे मोटिवेशन के लिए महत्वपूर्ण है ! मोटिवेशनल आर्टिकल के बीच इस मोटिवेशनल दोहे को समय निकालकर अवश्य पढ़े और शेयर भी करे ! कबीर दास जी के दोहे से हम सभी को बहुत कुछ सिखने को मिलता है !

Previous Post Next Post