किसी इंसान को परखना सीखें ! How to judge a Person ! 101 Gyani

 
kisi aadmi ki pahchan kaise kare, how to judge a person, insan ki pehchan kaise kare, kisi achchhe aur bure insan ki pahchan kaise kare, kisi aadmi ki niyat aur fitrat kaise check kare

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल को पढने के बाद आप किसी इंसान को परखना सिख जायेंगे ! इस आर्टिकल में हमने इंसान को कैसे परखें के बारें में लिखा है ! जिसे पढने के बाद इंसान को परखना सीख जायेंगे ! इंसान को किस प्रकार से परखा जा सकता है ! इंसान को परखने वाली कुछ महत्वपूर्ण टिप्स इस प्रकार है : 
 
किसी ने सच ही कहा है : 
इंसान की परख, उसकी दौलत से नहीं बल्कि उसकी नियत से होती है !
$ads={1}

इंसान को कैसे परखें 

 किसी इंसान को परखने के लिए आप क्या-क्या कर सकते है ! इनमें से कुछ इस प्रकार है : 
  • यदि किसी इंसान की नियत देखनी हो तो उसे कर्ज दो ! 
  • यदि किसी इंसान की फितरत देखनी हो तो उसे आजादी दो !
  • यदि किसी इंसान की अच्छाई देखनी हो तो उसकी सलाह लो ! 
  • यदि किसी इंसान का गुण देखना हो तो उसके साथ खाना खाओ ! 
  • यदि किसी इंसान का सब्र देखना है तो उसे हिदायत देकर देख लों ! 
  • यदि किसी इंसान की आदत देखनी हो तो उसे इज्जत दो ! 
  • यदि किसी इंसान का दुःख समझना है तो उसे अपना दुःख बताओं ! 
  • यदि किसी इंसान की सोच परखनी हो तो उस पर विश्वास करों ! 
आचार्य चाणक्य जी का कहना है की - 
नौकर की परीक्षा तब करें जब वो कर्त्तव्य का पालन न कर रहा हो, रिश्तेदार की परीक्षा तब करें जब आप मुसीबत में घिरे हो, मित्र की परीक्षा विपरीत परिस्थितियों में करे और पतनी की परीक्षा तब करें जब आपका वक्त अच्छा न चल रहा हो !

 

 किसी इंसान को परखने के लिए उसके पहनावे का अच्छा या बुरा होना, कोई मायने नहीं रखता है बल्कि उसके ह्रदय की अच्छाई या बुराई मायने रखती है ! जैसे की मान लीजिये, कोई इंसान अच्छे कपडे पहनता है, बडे-बड़े घर में रहता है, बड़ी-बड़ी गाड़ियों में घूमता है, जिससे ये कोई जरुरी नहीं है की वह इंसान अच्छा ही होगा !  $ads={2}

यह बात कड़वी है लेकिन सच है की :

  • पुत्र की परख विवाह के बाद होती है 
  • पुत्री की परख जवानी में होती है 
  • पति की परख पत्नी की बीमारी के समय होती है 
  • पत्नी की परख पति की गरीबी में होती है 
  • मित्र की परख मुसीबत में होती है 
  • भाई की परख लड़ाई में होती है 
  • बहन की परख जायदाद में होती है 
  • औलाद की परख बुढ़ापे में होती है 
 इस आर्टिकल के अंत में आपसे यहीं कहूँगा की 
 एक अच्छे इंसान की सबसे पहली और सबसे आखिरी निशानी ये है की... वो उन लोगों की भी इज्जत करता है , जिनसे उसे किसी किस्म के फायदे की उम्मीद नहीं होती है !

Read More Articles : 


Previous Post Next Post