एक पिता और पुत्र की कहानी ! Motivational Story in Hindi ! Exam Vatika

motivational story in hindi, a father and a son story, inspiring story, lifestyle story, sanskar story, lifechanging story, best moral story, sanskar suvichar story

एक पिता और पुत्र की कहानी 

एक पुत्र अपने वृद्ध पिता को रात के खाने के लिए एक अच्छे रेस्टोरेंट में लेकर गया ! खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ो पर गिराया ! रेस्टोरेंट में बैठे दुसरे लोग जो खाना खा रहे थे वे वृद्ध को घृणा की नजरों से देख रहे थे लेकिन उसका पुत्र शांत बैठा था ! 

खाने के बाद पुत्र बिना किसी शर्म के अपने पिता को बाथरूम ले गया और उनके कपड़े साफ किया, चेहरे को साफ किया, बालों में कंघी लगाया, चश्मे पहनाया और फिर बाहर लाया ! खाना खा रहे सभी लोग ख़ामोशी से उन्हें ही देख रहे थे ! 

फिर उसने बिल का भुगतान किया और अपने पिता के साथ बाहर जाने लगा ! तभी वहां पर डिनर कर रहे एक अन्य वृद्ध व्यक्ति ने उसे आवाज दी और कहा - क्या तुम्हे नहीं लगता की यहाँ अपने पीछे तुम कुछ छोड़कर जा रहे हो ? उसने जबाब दिया - नहीं सर, मै कुछ भी छोड़कर नहीं जा रहा ! 

वृद्ध ने कहा - बेटे, तुम यहाँ प्रत्येक पुत्र के लिए एक शिक्षा सबक और प्रत्येक पिता के लिए उम्मीद छोड़कर जा रहे हो ! 

आमतौर पर हम लोग अपने बुजुर्ग माता-पिता को अपने साथ बाहर ले जाना पसंद नहीं करते है और उनसे कहते है - क्या करोगे,मेरे साथ चलकर, आपसे चला तो जाता नहीं, ठीक से खाया भी नहीं जाता ! आप तो घर पर ही रहो, वहीँ अच्छा होगा ! 

लेकिन आप सभी ये भूल गए है की - जब आप छोटे थे तब आपके माता पिता ही आपको अपनी गोद में उठाकर ले जाया करते थे ! जब आप ठीक से खा नहीं पाते थे तब आपकी माँ अपने हाथों से खाना खिलाती थी और खाना गिर जाने पर डांट नहीं प्यार जताती थी ! 

फिर आखिर वही माँ-बाप बुढ़ापे में बोझ क्यों लगने लगते है ! माँ-बाप भगवान के रूप के होते है ! उनकी सेवा कीजिये और प्यार दीजिये, क्योंकि एक दिन आप भी बूढ़े होंगे ! अपने माता-पिता का हमेशा सम्मान करें ! इसीलिए किसी ने ठीक ही कहा है - आप इन दो चीजों का अंदाजा कभी नहीं लगा सकते, माँ की ममता और पिता की क्षमता ! 

याद रखना : जिस दिन तुम्हारे कारण माँ-बाप की आँखों में आसूँ आते है, उस दिन तुम्हारा किया सारा धर्म-कर्म आंसुओं में बह जाता है ! जब एक रोटी के चार टुकड़े हो और खाने वाला पाँच तब मुझे भूख नहीं है, ऐसा कहने वाली सिर्फ माँ होती है ! 
Previous Post Next Post